Saraswati Dhruv (India) illustrated by Radja Ouslimane (Algeria)

Saraswati Dhruv (India) illustrated by Radja Ouslimane (Algeria)

Gond Community / Chhattisgarh, India

गोंड समुदाय / छत्तीसगढ़, भारत

 

Lead Facilitator, KHOJ Evam Jan Jagriti Samiti

प्रमुख प्रशिक्षक, खोज एवं जन जाग्रति समिति

 

LISTEN TO SARASWATI (HINDI)>>

 

HEAR THE FULL CONVERSATION (HINDI)>>

  • In Their Own Words

     

    I am Indigenous, I am a woman, and—here's the thing—I belong to the forest. I don't need to beg for my rights. I fight for them.

     

    मैं आदिवासी हूँ, और मैं महिला हूँ और -- एक चीज है -- मैं जंगल क्षेत्र में हूँ। जो मेरा अधिकार है उसको मुझे भीख मांगना भीख मांगने की जरूरत नहीं है। उस को मैं लड़के लेती हूँ।

  • Saraswati's Call to Action

    If we want to survive climate change, then the first thing we need to do is save the forest. Whether it's in India, or America, or any other country. And everyone, every country needs to work together, it's essential. Only then can we survive climate change.

     

    जल वायु परिवर्तन को बचाना है हमें तो सबसे पहली बात हमें जंगल को बचाना होगा। चाहे वो भारत हो या अमेरिका हो या चाहे कोई भी देश हो। और उसके लिए हम सभी की एक जुट होना बहुत जरूरी है, सभी देशों को एक जुट होना जरूरी है। तभी हम जल वायु परिवर्तन को बचा सकते हैं।

  • About Saraswati

    Saraswati supports women as key decision makers in ensuring access to land rights and governance.

     

    सरस्वती महिलाओं को भूमि अधिकार और भूमि शासन जैसे मुद्दों में निर्णयकरण की भागीदारी का सहयोग करती हैं